May 21, 2019 9:01 AM
Breaking News
Home / फ़्लैश / चीन के वीटो पावर हटते ही सरगना मसूद अजहर घोषित हो जाएगा ग्लोबल आतंकी

चीन के वीटो पावर हटते ही सरगना मसूद अजहर घोषित हो जाएगा ग्लोबल आतंकी

01 मई 2019

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के ‘बुरे दिन’ आज से शुरू हो सकते हैं।दरअसल मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के मामले में आज चीन 1 मई को अपना रुख बदल सकता है । चीन लगातार इस मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित करने के मामले में वीटो का इस्तेमाल कर रोड़े अटका रहा था। मार्च में चीन ने चौथी बार ऐसा किया था ।

अगर चीन अपनी बात पर कायम रहकर वीटो वापस लेता है तो इसे भारत की कूटनीतिक जीत के तौर पर देखा जाएगा। क्योंकि भारत लगातर चीन पर प्रेशर बना रहा था कि वह जिस तकनीकी पक्ष की दुहाई देकर अजहर को हर बार बचा रहा है, उससे पीछे हट जाए।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले के बाद से ही भारत ने मसूद अजहर पर बैन लगाने की कोशिशें तेज कर दी थी । इसको लेकर संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में प्रस्ताव भी लाया गया था । लेकिन चीन ने वीटो लगाकर इसे रोक दिया । जिसके बाद अमेरिका, फ्रांस और यूके ने भारत के प्रस्ताव को आगे बढ़ाया, और अब चीन को दबाव में आना ही पड़ा ।

बता दें कि ये पहली बार होगा जब जम्मू-कश्मीर में किसी आतंकी हमले की वजह से एक आतंकी को ग्लोबल आतंकी घोषित किया जाएगा । इससे पहले हाफिज सईद को मुंबई हमले के बाद ग्लोबल आतंकी घोषित किया गया था ।

बता दें कि मंगलवार को चीन ने कहा कि पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के मामले में वैश्विक निकाय की प्रतिबंध समिति में प्रासंगिक विचार-विमर्श जारी है और मामले में ‘थोड़ी प्रगति’ हुई है। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग से पूछा गया था कि क्या यह मुद्दा बुधवार तक सुलझ जाएगा? इस पर उन्होंने कहा, ‘मैं केवल यह कह सकता हूं कि मैं विश्वास करता हूं कि इसे समुचित तरीके से सुलझा लिया जाएगा।’

अजहर पर बैन लगाने के मामले में भारत को संयुक्त राष्ट्र में सभी ताकतवर देशों का समर्थन प्राप्त है। लेकिन चीन के अलावा पाकिस्तान इसपर राजी नहीं है। मंगलवार को ही पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय का एक बयान सामने आया था कि उन्हें भारत से इस बात का सबूत चाहिए कि पुलवामा हमले में अजहर का हाथ था। मंत्रालय ने कहा था कि इसके बाद ही वह उसपर बैन लगाने के बारे में सोचेंगे।

अजहर पर चीन का कोई बड़ा फैसला लेना भारत के चुनाव पर भी असर डालेगा। माना जा रहा है कि सत्तारूढ़ बीजेपी फैसले को सरकार के पक्ष में आने पर इसे भुनाने की पूरी कोशिश करेगी। ऐसे में चीन जरूर चाहेगी कि ब्लॉकिंग हटाने पर कोई फैसला चुनाव के बाद ले, लेकिन यूएस, यूके और फ्रांस के प्रेशर के बीच ऐसा मुश्किल है।

Check Also

चुनाव प्रचार खत्म होते ही पीएम ने अमित शाह के साथ मिलकर की पहली पीसी, राहुल बोले-वेरी गुड

17 मई 2019 अपने दूसरे कार्यकाल को लेकर शुक्रवार को चुनाव प्रचार को खत्म होने …

error: