May 21, 2019 8:59 AM
Breaking News
Home / धर्म-कर्म / मोहिनी एकादशी व्रत पर मिलता हैं, बच्चों को बुद्धि का वरदान

मोहिनी एकादशी व्रत पर मिलता हैं, बच्चों को बुद्धि का वरदान

वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मोहिनी एकादशी के नाम से जाना जाता है. इसी दिन भगवान श्री हरि विष्णु ने समुद्र मंथन से निकले अमृत कलश को दानवों से बचाने के लिए मोहिनी रूप धारण किया था. मोहिनी एकादशी का व्रत विधान करके व्यक्ति में आकर्षण और बुद्धि बढ़ती है, जिससे व्यक्ति बहुत ज्यादा प्रसिद्धि पाता है.

मोहिनी एकादशी पर मिलेगा बच्चों को बुद्धि का वरदान:

– मोहिनी एकादशी पर भगवान श्रीहरि विष्णु की पीले फल फूल और मिष्ठान से पूजा-अर्चना करें.

– 11 केले और शुद्ध केसर भगवान श्रीहरि विष्णु को अर्पण करें.

– एक आसन पर बैठकर ॐ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का 108 बार जाप करें.

– जाप के बाद केले का फल छोटे बच्चों में बाटें और केसर का तिलक बच्चों के माथे पर करें.

मोहिनी एकादशी पर बढ़ेगा आपका आकर्षण:

– मोहिनी एकादशी के दिन सुबह उठकर स्नान करके साफ वस्त्र धारण करें.

– दाएं हाथ से पीले फल-फूल नारायण भगवान को अर्पण करें और गाय के घी का दीया जलाएं.

– अब किसी आसन पर बैठकर नारायण स्तोत्र का तीन बार पाठ करें.

– एकादशी के दिन से लगातार 21 दिन तक नारायण स्तोत्र का पाठ जरूर करें.

मोहिनी एकादशी पर करें ये महाउपाय:

– मोहिनी एकादशी के दिन सुबह के समय जल में हल्दी डालकर स्नान करें.

– अपनी उम्र के बराबर हल्दी की साबुत गांठ पीले फलों के साथ भगवान श्रीहरि विष्णु के मंदिर में अर्पण करें.

– विष्णु सहस्त्र नाम का पाठ करें. पाठ के बाद फलों को जरूरतमंद लोगों में बाट दें.

– हल्दी की गांठों को कपड़े में लपेटकर धन रखने के स्थान पर रखें.

Check Also

मां बगलामुखी अपने भक्तों की शत्रुओं तथा और हर नकारात्मक शक्ति से करती हैं रक्षा,जानें पूजा विधि

शास्त्रों के अनुसार वैशाखमास की शुक्लपक्ष की अष्टमी तिथि को देवी बगलामुखी का अवतरण दिवस …

error: